i1

हमारी सेवाए

नारायण नागबली

अधिक माहिती

कालसर्प शांती

अधिक माहिती

त्रिपिंडी श्राद्ध

अधिक माहिती

हमारे बारे मे


श्री. अनंत दत्तात्रय जोशी और उनके पुत्र श्री. विशाल अनंत जोशी श्री त्र्यंबकेश्वर के मुल गोदावरी तथा श्री त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग के स्थानिक तीर्थ पुरोहित है | श्री क्षेत्र त्र्यंबकेश्वर मे आनेवाले यात्रियो एवं श्रद्धालु की जोशी परिवार अनादी कालसे सेवा करता आ रहा है। आनेवाले यात्रिओकी भगवान के प्रति श्रद्धा और धार्मिक पूजाओके उपर विश्वास को ध्यान मे रखते हुए पंडितजी का परिवार पिछले ३०० से भी ज्यादा बरसो से सभी धार्मिक पूजाए विधिविधान से करता आ रहा है। पंडितजी का यात्रियोके प्रति प्रेम और वेदोके के उपर श्रद्धा के होने के कारण देश-विदेशो से श्रद्धालु त्र्यंबकेश्वर मे पंडितजी के पास पूजाअर्चना के लिये आते है | आनेवाले श्रद्धालु के जीवन के सभी कष्टो का, दुखो का एवं पापो का निवारण करके उसके आयुष्य मे सुख, समृद्धी, ऐश्वर्य और आरोग्यता लाने की पंडितजी की परंपरा पुरानी है। पंडितजी का पूरा परिवार यात्रियोकी सेवा मे व्यस्त रेहता है | श्री. अनंतजी और श्री. विशालजी ने अपने वेदोका अध्ययन श्री क्षेत्र त्र्यंबकेश्वर मे पूरा किया है | श्री विशालजी ने वेदो के साथ ज्योतिष विषय का भी अध्ययन करके 'शास्त्री' पद पाया है | श्री विशालजी के पास ज्योतिष ज्ञान होने के कारण यात्रियोके जन्मकुंडली का विश्लेषण करके दोष के अनुसार पुजाअर्चन किया जाता है | हर यात्री पर विशेष रूप से ध्यान दिया जाता है | श्रद्धालु और यात्रयोकि श्री क्षेत्र त्र्यंबकेश्वर मे उचित सुविधाओ के लिये पंडितजीने श्री त्र्यंबकेश्वर मंदिर के पास 'सार्थक पॅलेस' नामक निवासस्थल बनवाया है | जिसमे निवास के साथ पुजाअर्चन की भी व्यवस्था है | इस निवासस्थल का वैशिष्ट्य ये हे के यहासे त्र्यंबकेश्वर मे स्थित सभी देवताओके के दर्शन होते है | यहा आके श्रद्धालु बड़े भक्तिभावसे इस पावनधरा से भगवान त्र्यंबकराज और गौतमी गंगा गोदावरी के आशीर्वाद से अपनी झोली खुशियोसे भरके जाते है |

वेदोके साथ पंडितजी ने अपना जीवन सामाजिक कार्योमे भी अर्पित किया है | तीर्थपुरोहित और तीर्थस्थल ये भारत की संस्कृति की जड़े है | पुरोहित इस शब्द का मतलब है सामनेवाले (यात्रियो) का हित देखना | तीर्थयात्रियो के प्रति किये हुए कार्य को सरहाते हुए आखिल भारतीय तीर्थ पुरोहित महासंघ (रजि.) ने पंडित श्री अनंतजी को इस संस्था का 'राष्ट्रीय अध्यक्ष' बनाया है | संपूर्ण भारतवर्ष मे तीर्थस्थलो पर जैसे मथुरा, हरिद्वार, अलाहाबाद, द्वारका ई. ऐसे स्थलोपर संस्था की शाखाए है | 'तीर्थोका विकास ही भारत का विकास है' ऐसी इस संस्था की सोच है | इस संस्था के माध्यम से पंडित अनंतजी का भ्रमण पूरे भारतवर्ष के तीर्थस्थलो पर होता रेहता है |

              श्री. विशालजी ने यात्रीयोका ज्ञान बढ़ाने के लिये कुछ किताबे भी लिखकर प्रदर्शित की है |


श्री. विशाल अनंत जोशी
09850332612

मुहूर्त (Muhurt)

नारायण - नागबली (पितृदोष) पूजा के सन २०२३ - २०२४ (Narayan - Nagabali) Pooja 2023 - 2024

January 2023 - 4, 11, 22, 28

February 2023 – 4, 10, 19, 25

March 2023 - 4, 9, 18, 24
   
April 2023 – 2, 8, 14, 20

May 2023 – 17, 25, 30

June 2023 – 3, 8, 14, 24

July 2023 – 11, 18, 28

August 2023 – 2, 10, 17, 26

September 2023 – 4, 12

October 2023 – 1, 5, 8, 11, 28

November 2023 – 4, 19, 25, 30
 
December 2023 – 7, 14, 22, 27

January 2024 – 5, 13, 18, 26

February 2024 - 1, 9, 14, 22

March 2024 – 3, 13, 20, 26

कालसर्प योग (राहु - केतू) शान्तिक पूजा के सन २०२३ - २०२४ (KaalSarp - Ketu) Pooja 2023 - 2024

January 2023 – 1, 8, 13, 26, 30

February 2023 – 6, 12, 18, 27

March 2023 - 6, 11, 20, 26

April 2023 – 4, 10, 16, 22

May 2023 - 14, 19, 21, 27

June 2023 - 1, 5, 12, 16, 18, 26

July 2023 - 9, 13, 16, 23, 30

August 2023 – 6, 14, 16, 21, 28

September 2023 – 6, 10, 14, 17, 28

October 2023 – 7, 13, 21, 30

November 2023 – 6, 17, 24, 27

December 2023 – 2, 9, 17, 25, 29

January 2024 – 7, 15, 22, 28

February 2024 – 3, 11, 18, 24

March 2024 – 8, 11, 18, 28

Contact Us

  • Sartak Palace, Beside Guru Gangeshwar, Near Gautham Talab, Trimbakeshwar, Nashik 422212
  • 09850332612 / 09850562612
  • gurujoshiji@gmail.com
  • Contact Us